टर्की में अंतर्राष्ट्रीय किडनेपर्स के चगुल में फंसे दिल्ली के नौजवान

January 4, 2017, 7:54 pm
img

यूसुफ अंसारी

राजनीतिक संपादक

दिल्ली के रहने वाले दो नौजवान मोहम्मद तौहीद और मौहम्मद आमिर टर्की के इस्तांबुल में अतंर राष्ट्रीय किडनेपर्स गिरोह के चगुंल में फंसे हुए हैं। किडनेपर्स ने इन्हें छोड़ने लिए दोनों के परिवार वालों से 15-15 लाख रूपए की फिरौती मांगी है। दो दिन में फिरौती नहीं दिए जाने पर दोनों को जान से मारने की धमकी दी है। 

दोनों के परिवार वालों ने बुधवार की सुबह विदेशमंत्री सुषमा स्वराज को बाकायदा चिट्ठी लिख कर इसकी जानकारी दी है। आम तौर पर ट्विटर के ज़रिए मिलने वाली शिकायतों को प्राथमिकता के आधार पर फौरन निपटाने वाली सुषमा स्वराज की तरफ से इन दोनों मामलों में अभी तक कोई कार्रवाई किए जाने की की खबर नहीं मिली है। दोनों परिवार वालो ने इस्तांबुल में मौजूद भारतीय कांसुलेट में भी संपर्क कर इस अपहरण की जानकारी देकर मदद मांगी है लेकिन वहां से भी अभी तक की किसी तरह की कार्रवाई के बारे में कोई खबर नहीं मिली है।    

अपहरणकर्ताओं के चगुंल में फंसे 23 वर्षीय मोहम्मद तौहीद के भाई अब्दुल कुद्दूस के मुताबिक उसका भाई गत 3 दिसंबर को टूरिस्ट वीज़ा पर टर्की गया था। वहां इस्ताबुल में उसका अपरहण हो गया है। अपरहणकर्ताओं ने मंगलवार की रात घर वालों को तौहीद के ही फोन से वीडियो कॉल करके अपहरण की जानकारी दी। अपहरण कर्ताओं ने परिवार वालो से 15 लाख रूपए मांगे है। बुधवार की शाम को अपहरण कर्ताओं ने दोबारा फोन करके तबरेज़ नाम के किसी व्यक्ति के खाते में 15 लाख रूपए जमा कराने के कहा है। फोन पर तौहीद ने अपने भाई से कहा, “आप लोग यहां किसी से बात मत करो वर्ना ये लोग मुझे मार देंगे। घर जाकर मां से मेरी बात कराओ। मैं उनसे पैसा जमा कराने के कहूंगा। इनका बैंक अकाउंट बांग्लादेश में है।”  

तौहीद की बहन फरहीन ने बताया कि मंगलवार की रात 8 बजकर 40 मिनट पर उसके भाई के फोन से आई वीडियो कॉल उसी ने रिसीव की थी। उसने देखा कि उसका भाई ज़मीन पर बैठा हुआ था। उसके हाथ पीछे की तरफ बंधे हुए थे। वो रो रहा था और खुद को अपहरणकर्ताओं के चगुंल से छुड़ाने की गुहार लगा रहा था। उधर आमिर के भाई फरहान ने भी ऐसी ही कहानी बयान की है। आमिर 11 नवंबर को टर्की गया था। उसके अपहरण की जानाकरी भी अपहरण कर्तकाओं नें वीडियो कॉल करके दी और 15 लाख रुपए की फिरौती मांगी है। आमिर के घर वालों को भी मंगलवार की रात करीब 8 बजे फोन करके उसके अपहरण की जानकारी दी गई। 

इन दोनों नौजवानों के परिवार वालों से बात करके पता चला हा कि दोनों ही नौजवान टूरिस्ट वीज़ा पर काम ढूंढने के सिसलसिले में टर्की गए थे। दोनो ही विदेशॆं में काम दिलाने के नाम पर भोले भाले नौजवानो कों ठगने वाले एजेंट के झांसे में आकर अंतर राष्ट्रीय किडनेपर्स गिरोह के चंगुल में फंस गए हैं। इन दोनों परिवार वालों पहले उन्हीं के फोन से वीडियो कॉल करके उनके अपहरण की सूचना दी गई। बाद में फिरोती मांगने लिए जिस नंबर से फोन आया वो लंदन का है। जिस खाते में पैसा जमा कराने को कहा जा रहा है वो बांग्लादेश के किसी बैंक का है। जिस शख्स तबरेज़ का वो बैंक खाता बताया जा रहा है वो ब्राज़ील में बैठा है।

इस संबध में तौहीद के भाई अब्दुल क़ुद्दूस से उनके मोबाइल न. 9999197170 और 9811005103 पर संपर्क किया जा सकता है।

Similar Post You May Like

Around The World

loading...

More News