नवजोत कौर कांग्रेस में शामिल, सिद्धू का इंतजार बरकरार

November 29, 2016, 12:00 pm
Share on Whatsapp
img

यूसुफ अंसारी

नई दिल्ली। पंजाब में जैसे जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं, राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ती जा रही हैं। सोमवार को नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने कांग्रेस का दामन थाम लिया। उनके के साथ पूर्व हॉकी खिलाड़ी परगट सिंह भी कांग्रेस में शामिल हो गए। पत्नी के कांग्रेस में शामिल होने के बाद सिद्धू के भी कांग्रेस में जाने की संभावना बढ़ गई है। समझा जाता है कि सिद्धू कांग्रेस में शामिल होने के लिए कांग्रेस आलाकमान के साथ अभी और तोलमोल कर रहे हैं। राज्यसभा की सदस्यता और भाजपा छोड़ने के बाद सिद्धू के आम आदमी पार्टी में जाने की चर्चा थी लेकिन बात न बनने पर सिद्धू ने परगट सिंह और बैंस बंधुओं के साथ शान-ए-पंजाब मोर्चा बनाया था। पहले इस मोर्चे के चुनाव में उतरने के आसार थे। बाद में खुद सिद्धू ने ही ऐलान किया कि उनका मोर्चा चुनाव मे हिस्सा नहीं लेगा। सिद्धू के इस ऐलान के बाद मोर्चे मे भिखराव पैदा हुआ। इसी सिलसिले में बैंस बंधु सिद्धू के झटका देकर आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए। इसके बाद एक बार फिर सिद्धू के आम आदमी पार्टी के साथ जाने की चर्चा चली लेकिन इस बार भी उनकी दाल नहीं गली। हालांकि भाजपा से अलग होने के बाद सिद्धू ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से मुलाकात की थी। तब माना जा रहा था कि सिद्धू पंजाब में बतौर मुख्यमंत्री उम्मीदवार आम आदमी पार्टी का चेहरा बन सकते हैं। बाद में अरविंद केजरीवाल ने इस संभावना से इंकार कर दिया था।  

आम आदम पार्टी मे दाल नहीं गली तो सिद्धू ने कांग्रेस में अपने लिए संभावनाएं टटोली। शुरू में कैप्टन अमरेंदर सिंह सिद्धू को पार्टी मे लने के खिलाफ थे। उन्हें लगता था कि पार्टी में उनके विरोधी सिद्धू को मुखय़ंमत्री पद का उम्मीदवार बनवाने कर उनका पत्ता साफ करने की साजिश कर रहे हैं। जब आलाकमान की तरफ से ये साफ हो गया है कि कैप्टन अमरेंदर सिंह की मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार रहेंगे तो कैप्टन खुद सिद्धू को कांग्रेस में लाने की कोशिशों में जुट गए। बताया जाता है कि पूर्व क्रिकेटर अजहरुद्दीन ने सिद्धू को राहुल और प्रियंका से मिलवाया। इन्हीं मुलाकातों में सिद्धू का कांग्रेस में शामिल होना तय हुआ। बताया जा रहा है एक रणनीति के तहत पहले सिद्धू ने अपनी पत्नी को कांग्रेस में शामिल करवाया है। बाद में वो खुद पूरे तामझाम के साथ कांग्रेस मे शामिल होंगे। चर्चा है कि राहुल या प्रियंका में से किसी एक की मौजूदगी में सिद्धू को कांग्रेस में शामिल कराया जाएगा।

कांग्रेसी सूत्रों के मुताबिक सिद्धू और कांगेस में हुई डील के मुताबिक वो कांग्रेस में शामिल होंगे लेकिन वो खुद विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। सिद्धू कांग्रेस के टिकट पर अमृतसर से लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं। सतलुज यमुना लिंक विवाद पर कैप्टन अमरेंदर सिंह के इस्तीफे की वजह से अमृतसर लोकसभा सीट खाली हो चुकी है। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस से बात करते समय सिद्धू की नजर मुख्यमंत्री पद पर ही थी लेकिन कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस मुद्दे पर बगावती तेवर अपना लिए थे। इसके बाद कांग्रेस की तरफ से सिद्धू को उपमुख्यमंत्री की कुर्सी का ऑफर दिया गया लेकिन सिद्धू ने कैप्टन के अंडर में काम करने से ज्यादा बेहतर लोकसभा जाना ही समझा। गौरतलब है कि सिद्धू अमृतसर से ही भाजपा के सांसद थे लेकिन पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने उनका टिकट काट कर उनकी जगह पर अरुण जेटली को अमृतसर चुनाव लड़ाया था। भाजपा के इस फैसले से नाराज सिद्धू पंजाब में चुनाव प्रचार से दूर रहे थे और बाद में उन्होंने भाजपा को ही बॉय-बॉय कर दिया था।

Similar Post You May Like

Around The World

loading...

More News