हर चुनौती का सामना करने में सक्षम है नई पीढ़ी- डॉ.रमन सिंह

October 21, 2016, 5:12 pm
Share on Whatsapp
img

रायपुर- छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा है कि राष्ट्र निर्माण में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका है। नई पीढ़ी और समाज को गढ़ने का कार्य हमारे शिक्षक बखूबी कर रहे हैं। देश की नई पीढ़ी हर चुनौती का सामना करने में सक्षम है।

डा. डॉ.रमन सिंह ने आज केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सी.बी.एस.सी.) स्कूलों के संगठन अभ्युदय (सहोदया) के तीन दिवसीय 22 वें राष्ट्रीय वार्षिक सम्मेलन का शुभारंभ करते हुए यह विचार व्यक्त किया।

अभ्युदय (सहोदया) संगठन का गठन शिक्षा में गुणात्मक सुधार और एक दूसरे स्कूल से अध्ययन, अध्यापन और शिक्षा से जुड़ी बेहतर पद्धतियों को सीखने के उददेश्य से 1986 में किया गया। इस संगठन के छत्तीसगढ़ चेप्टर का गठन वर्ष 2011 में किया गया, जिसमें प्रदेश के 32 सीबीएसई स्कूल शामिल हैं।

मुख्यमंत्री ने इस संगठन द्वारा शिक्षा को और भी अधिक गुणवत्तापूर्ण बनाने और शिक्षा के प्रचार -प्रसार के लिए किए जा रहे प्रयासों की प्रशंसा की। उन्होने कहा कि यह सम्मेलन कौशल उन्नयन पर केन्द्रित है। छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य है, जिसने कानून बनाकर प्रदेश के युवाओं को कौशल उन्नयन का अधिकार दिया है। प्रदेश के सभी 27 जिलों में लाइवलीहुड कॉलेज प्रारंभ किए गए हैं। इन कॉलेजों के साथ आईटीआई पॉलीटेक्निक कॉलेजों में युवाओं को उनकी रूचि के व्यवसाय में कौशल उन्न्यन का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्होने कहा कि प्रदेश में नई पीढ़ी की शिक्षा के बेहतर अवसरों के लिए एम्स, आई.आई.टी., एन.आई.टी., आई.आई.एम., हिदायतुल्ला राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय जैसे देश के सर्वश्रेष्ठ शिक्षा संस्थान संचालित हैं। प्रदेश के दूरस्थ नक्सल प्रभावित आदिवासी अंचल दंतेवाड़ा, बीजापुर और सुकमा के 27 छात्र-छात्राओं का चयन इस वर्ष भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) में हुआ है। इसके साथ ही राष्ट्रीय प्रौद्यौगिकी संस्थान, मेडिकल कॉलेजों और देश के श्रेष्ठ शिक्षा संस्थानों में इन क्षेत्रों के विद्यार्थी अपनी प्रतिभा और मेहनत से प्रवेश कर रहे हैं।

Similar Post You May Like

Around The World

loading...

More News