उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को विपक्षी नेताओं की ये 5 सलाह, कहा- 'आपकी सीट के पीछे एक तराजू है'

August 11, 2017, 4:56 pm
Share on Whatsapp
img

एम. वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को देश के उपराष्ट्रपति पद की शपथ ली. उन्होंने राष्ट्रपति भवन के दरबार हॉल में आयोजित सादे समारोह में शपथ-ग्रहण किया. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वेंकैया नायडू को हिन्दी में शपथ दिलाई. नायडू (68) उपराष्ट्रपति पद के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की ओर से उम्मीदवार बनाए जाने से पहले तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल का महत्वपूर्ण हिस्सा रहे. उन्होंने उपराष्ट्रपति के तौर पर एम. हामिद अंसारी की जगह ली है, जिन्होंने अगस्त 2007 से लगातार दो कार्यकाल के लिए इस पद पर सेवा दी. वेंकैया नायडू के स्वागत में सत्ताधारी और विपक्ष के नेताओं ने भाषण दिए. स्वागत भाषण में विपक्षी नेताओं की ओर से कही गई बातें गौर करने वाली रही, क्योंकि कई नेताओं ने उपराष्ट्रपति के सामने अनुरोध के लहजे में कई सलाह देने वाली बातें कही. आइए उन्हीं भाषणों की मुख्य बिंदुओं पर नजर डालें.

ये भी पढ़ें: देश के 13वें उपराष्ट्रपति बने वेंकैया नायडू

गुलाम नबी बोले-चेयरमैन निष्पक्ष रहें: राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने कहा, 'जिस पद पर आप बैठे हैं, उस सीट के पीछे एक तराजू है, जो बार-बार जज, स्पीकर या राज्यसभा चेयरमैन को याद दिलाता है कि वह निष्पक्ष है. इस पद पर बैठने वाले की कोई पार्टी नहीं होती है.'

ये भी पढ़ें: उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने तिरुमला पहुंचकर की भगवान वेंकटेश्वर की पूजा​

येचुरी बोले-हमें उम्मीद है आप न्याय करेंगे: मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा, 'सभापति के रूप में आपका सदन में पहला दिन है, वहीं सदस्य के रूप में मेरा आखिरी दिन है. हम अलग विचारधारा के होन के बावजूद 40 साल से दोस्त हैं. अब आप अशोक चक्र और न्याय के सिंबल के नीचे बैठे हैं, उम्मीद है कि आप सभी को न्याय से मौका देंगे.'

ये भी पढ़ें: BJP ने आखिर क्‍यों चुना वेंकैया नायडू को...?

सतीश मिश्रा बोले-उम्मीद है 18 जुलाई जैसा दिन न दोहराए: बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के महासचिव सतीश मिश्रा ने कहा, 'उम्मीद है कि 18 जुलाई जैसा दिन नहीं दोहराएगा, जब मायावती को बोलने नहीं दिया गया. हमें उम्मीद है कि आपके रहते आखिरी बेंच पर बैठने वाला व्यक्ति भी बोल सकेगा.'

ये भी पढ़ें: उपराष्ट्रपति के रूप में वेंकैया क्यों हो सकते हैं कामयाब...?

'आपके नेतृत्व में शोरशराबे के बिना बिल पास होंगे': राज्यसभा में समाजवादी पार्टी (सपा) के सांसद रामगोपाल यादव बोले, 'मैं चाहता हूं कि राज्यपाल और उपराष्ट्रपति के पद पर गैर राजनीतिक शख्स बैठें. अब आप इस कुर्सी पर हैं, उम्मीद हैं, उम्मीद है कि आपके नेतृत्व में शोरशराबे के बिना बिल पास होंगे.'

प्रफुल्ल पटेल बोले- आप सदन में हंसी-मजाक लौटाएंगे: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के राज्यसभा सांसद प्रफुल्ल पटेल ने कहा, 'पिछले कुछ समय से सदन में ज्यादा शोर-शराबा होने लगे हैं. उम्मीद है कि आपके आने के बाद इस सदन में हंसी मजाक भी वापस आएगा.'

राज्यसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित: राज्यसभा की कार्यवाही शुक्रवार को सभापति एम. वेंकैया नायडू ने अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी. इससे पहले सदन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित अन्य सांसदों ने उनका स्वागत किया और उम्मीद जताई कि वह बेहतर तरीके से सदन का संचालन कर सकेंगे.

Similar Post You May Like

Around The World

loading...

More News