हरियाणा में जाट आरक्षण आंदोलन कल से

January 28, 2017, 2:10 pm
Share on Whatsapp
img

हिसार- अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के 29 जनवरी से हिसार जिले के मय्यड़ गांव में जाट आरक्षण आंदोलन शुरू करने के एलान के मद्देनज़र कानून व्यवस्था और शांति बनाए रखने, किसी भी स्थिति से निपटने के लिए अर्द्ध सैनिक बलों और राज्य पुलिस की पांच-पांच कम्पनियां पहुंच गईं हैं।

जिला उपायुक्त निखिल गजराज ने स्थानीय पंचायत भवन में पंचायतीराज संस्थाओं और शहर के व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि उच्चतम न्यायालय के आदेशानुसार राष्ट्रीय राजमार्ग और रेलवे ट्रैक पर आंदोलन अथवा धरना देने तथा इन्हें बाधित करने कतई अनुमति नहीं दी जाएगी। यदि कोई ऐसा करता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने बताया कि हिसार में धरना-प्रदर्शन के लिए उन्हें एक संगठन का आवेदन प्राप्त हुआ है लेकिन वह संगठन कहां धरना देना चाहता है वह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है। बिना अनुमति के किसी को भी कहीं भी धरना नहीं लगाने दिया जाएगा।

गजराज ने कहा कि प्रजातांत्रिक व्यवस्था में कानून के दायरे में रहकर कोई भी व्यक्ति या संगठन अपनी बात और मांग रख सकता है लेकिन ऐसा करने से यदि किसी दूसरे व्यक्ति को परेशानी आए तो यह ठीक नहीं है।

उन्होंने पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों का आह्वान किया कि वे किसी प्रकार की अफवाह फैलाने वालों से सावधान रहें और युवाओं को किसी भी बहकावे में न आने दें और न ही किसी को ऐसा न करने दें। उन्होंने लोगों से कानून व्यवस्था एवं शांति बनाये रखने में प्रशासन का सहयोग करने की अपील की। वहीं हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने जाट समुदाय से अनुरोध किया है कि वह सड़कों पर उतरकर आंदोलन करने के वजाय आरक्षण को लेकर अदालत के फैसले का इंतज़ार करे। कैप्टन अभिमन्यु ने कल पत्रकारों से बातचीत में कहा कि राज्य सरकार ने जाटों के आरक्षण की मजबूत व्यवस्था की है लेकिन मामला अब अदालत में पहुंच गया है और उसे इस व्यवस्था की समीक्षा करने का अधिकार है। उन्होंने उम्मीद व्यक्त की कि अदालत का फैसला सरकार की व्यवस्था के अनुसार ही आएगा तथा जाटों को आंदोलन करने के बजाय अदालत के निर्णय का इंतजार करना और संयम बरतना चाहिए।

Similar Post You May Like

Around The World

loading...

More News